समर्थक

शनिवार, 14 अप्रैल 2012

इतिहास गढ़ती नारियाँ...


जिसने स्कूल का मुंह तक नहीं देखा, वह स्कूल की किताबों में
ज्यादातर की पढ़ाई-लिखाई बीच में ही छूट गई। आर्थिक मजबूरियों की वजह से उनको घर-गृहस्थी में उनको जुटना पड़ा। पर उन्होंने कुछ समय में ऐसा कर दिखाया कि दुनिया के सामने मिसाल बन गईं। ऐसी दो छत्तीसगढ़ मातृ शक्ति फूलबासन बाई व शमशाद बेगम की कहानी भी अब स्कूलों में पढ़ाई जाएगी। 


राज्य के 92 ख्यातिनाम लोगों पर पाठ्य पुस्तक निगम चित्र कथाएं तैयार करने जा रहा है। पद्मश्री तीजन बाई और हॉकी खिलाड़ी सबा अंजुम भी ऐसी हस्तियों में शामिल हैं। जुलाई-अगस्त तक स्कूलों में इन चित्र कथाओं की सप्लाई शुरू हो जाएगी, ताकि बच्चे इसे पढ़ सकें। 20 हस्तियों के बारे में चित्र कथाएं लगभग तैयार हो चुकी हैं। इन्हें जुलाई-अगस्त 2012 तक स्कूलों में भेज दिया जाएगा। शमशाद बेगम, फूलबासन यादव, तीजनबाई व सबा अंजुम को छोड़कर इस सूची में शामिल कोई भी व्यक्ति जीवित नहीं है। 


यह पहला मौका होगा जब चार जीवित लोगों पर चित्रकथा तैयार कर स्कूलों में भेजी जा रही है। इसमें साहित्यकार, रंगकर्मी, स्वतंत्रता सेनानी, शहीद पुलिस अधिकारी, राजनीतिज्ञ आदि इनमें शामिल हैं। सबा अंजुम व तीजन बाई को पहले ही चित्र कथाओं में शामिल करने का फैसला लगभग हो गया था। अब इनके साथ फूलबासन यादव व शमशाद बेगम का नाम भी जुड़ गया है। पाठ्य पुस्तक निगम के अधिकारियों का कहना है कि इनकी जीवनियों पर स्क्रिप्ट लिखने का काम चल रहा है। जल्द ही चित्र कथाएं तैयार हो जाएंगी। 


शम्मू बन गई शमशाद बेगम :
बालोद जिले के गुंडरदेही में 1962 में शमशाद बेगम का जन्म हुआ था। घर में इनका नाम शम्मू है। शुरुआत से ही परिवार की आर्थिक स्थिति दयनीय रही। जैसे-तैसे करके उन्होंने स्कूल की पढ़ाई की। अभावों में पूरा बचपन बीता। बचपन से ही कुछ अलग करने की चाह रही। दुर्ग जिले में 1990 में साक्षरता अभियान शुरू हुआ। अभियान में शमशाद बेगम बिना मानदेय के जुड़ गईं। 
गुंडरदेही ब्लॉक में 12 हजार महिलाएं निरक्षर निकलीं। देखते ही देखते दस सालों में 12 हजार में से 10 हजार से ज्यादा महिलाएं साक्षर बन गईं। आज इनके साथ 40 हजार महिलाएं जुड़ी हैं। उपलब्धियों और मेहनत की वजह से ही शमशाद बेगम को मिनी माता अवार्ड, राज्य महिला आयोग का सम्मान, नाबार्ड के अवार्ड सहित ढेरों सम्मान मिले। इस साल इन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया। अवार्डो की इस झड़ी से गांव की शम्मू अब शमशाद बेगम हो गईं हैं।

फूलबासन आज भी चराती है गाय-बकरियां 

पद्मश्री फूलबासन के जीवन की कहानी प्रेरणा देने वाली है। राजनांदगांव के छुरिया ब्लॉक में एक गरीब परिवार में उनका जन्म हुआ। घर में इन्हें बासन नाम से पुकारा जाता है। अभावों में उनका बचपन बीता। 10 वर्ष की आयु में शादी हो गई। 13 साल की उम्र में ये ससुराल गईं। 
वहां की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। बच्चों का पेट भरने के लिए दूसरों की गाय-बकरी को चराया और घरों में काम किया लेकिन इनका विश्वास कहीं नहीं डिगा। गांव की कुछ महिलाओं को साथ जोड़कर गरीब बच्चों को पढ़ाने और खिलाने का जिम्मा उठाया। देखते ही देखते दो लाख से ज्यादा महिलाओं का सहायता समूह बनाया। स्वास्थ्य, शिक्षा सहित अन्य पर इन्होंने कई काम किए। फूलबासन बाई को अपने इसी जज्बे के लिए स्त्री शक्ति पुरस्कार, नाबार्ड की ओर से राष्ट्रीय पुरस्कार, अमोदनी अवार्ड, चेन्नई में सदगुरू ज्ञानानंद अवार्ड, मिनीमाता पुरस्कार मिला। इस साल उन्हें राष्ट्रपति ने पद्मश्री अवार्ड से भी सम्मानित किया। 

संकल्प लें और सपने जरूर देखें

मन में दृढ़ संकल्प और उद्देश्य को लेकर काम करेंगे तो सफलता जरूर मिलेगी। -पद्मश्री शमशाद बेगम


जिंदगी में सपने जरूर देखें और अपनी इच्छाशक्ति से पूरा करने की कोशिश करें, सफलता जरूर मिलेगी। -पद्मश्री फूलबासन यादव


चित्र कथाओं में जीवित लोगों को शामिल करने के लिए कमेटी ने सहमति दे दी है। पद्मश्री फूलबासन यादव, शमशाद बेगम, तीजनबाई और सबा अंजुम प्रदेश की धरोहर हैं। इन पर लेखन का काम शुरू किया जा रहा है। इनकी जीवनी को पढ़कर निश्चित रूप से बच्चे प्रेरित होंगे। सुभाष मिश्रा, महाप्रबंधक, पाठ्य पुस्तक निगम

गुरुवार, 15 मार्च 2012

शत् शत् नमन स्व.राहुल शर्मा जी को विनम्र श्रद्धांजली...


एसपी स्व. राहुल शर्मा की खुदकुशी के दो दिनों बाद उनके पिता, पत्नी व परिजन खुलकर सामने आए। परिजनों ने उनकी मौत के पीछे पुलिस सिस्टम को दोषी माना है, साथ ही इस मामले में एफआईआर दर्ज करने की मांग शासन से की है। शर्मा के पिता आरके शर्मा ने राज्य शासन द्वारा सीबीआई जांच की घोषणा को सही ठहराया है।

उन्होंने यह भी कहा कि न्याय मिलने तक उनकी लड़ाई जारी रहेगी। वे मानवाधिकार आयोग से भी पूरे मामले की शिकायत करेंगे। दिवंगत एसपी की पत्नी जी.गायत्री शर्मा ने कहा कि सिस्टम में समय रहते सुधार लाना चाहिए, ताकि भविष्य में कोई अधिकारी या कर्मचारी इसका शिकार न बने। वहीं दो दिन बाद भी उनका लैपटाप नहीं मिला।
एसपी राहुल शर्मा के दादा 90 वर्षीय बसंतराम शर्मा ने कहा कि करीब 8-10 दिनों पहले उनकी अपने पोते से बात हुई थी। इस दौरान उन्होंने बताया था कि विभाग के सीनियर अफसर उन्हें काम करने नहीं दे रहे हैं। इससे वे काफी परेशान हैं। उन्होंने पोते की मौत के लिए विभाग के वरिष्ठ अफसर को दोषी करार दिया है। उन्होंने मांग की कि जो भी अधिकारी दोषी है, उसे तत्काल निलंबित कर उसके खिलाफ जुर्म दर्ज किया जाए।
ताकि कोई और शिकार न हो : गायत्री
राहुल की पत्नी जी. गायत्री शर्मा ने पत्रकारों से कहा कि उनके पति सिस्टम के शिकार हुए हैं। वे जब से बिलासपुर आए थे, तब से उन्हें काम करने नहीं दिया जा रहा था। इससे वे बेहद परेशान थे। भविष्य में कोई अधिकारी या कर्मचारी डिप्रेशन में आकर ऐसा कोई कदम न उठाए, इसके लिए पुख्ता जांच और कार्रवाई की जानी चाहिए।
उनके पति ने अपने काम में दखल को लेकर कई बार उच्चधिकारियों से भी की थी,लेकिन ध्यान नहीं दिया गया। एसपी को आशंका थी, गायब हो जाएगा नोट, आमतौर पर सुसाइड नोट लिखने वाला व्यक्ति उसे मृत्यु पूर्व जेब व ऐसी जगह छोड़ जाता है, जहां पुलिस या परिजनों की तत्काल नजर पड़ जाए। शर्मा को शायद आशंका थी कि बाहर होने पर उनका सुसाइड नोट गायब हो जाएगा। इसीलिए उन्होंने इसे अपने ब्रीफकेस में रखना मुनासिब समझा होगा।

संकलनकर्ता:- ब्लागर नीलकमल वैष्णव"अनिश"
:- सौजन्य(चित्र और लेख) केलो प्रवाह, देशबंधु, नवभारत और दैनिक भास्कर

गुरुवार, 22 सितंबर 2011

प्रगति......


प्रगति आतंक की जननी है 
खून तो मानो आतंक है 
पर प्रगति तो धमनी है 
प्रगति ने किया बंदूकों का आविष्कार 
इंसानों ने किया अपनों का ही शिकार 
प्रगति ने ही किया परमाणु अस्त्रों का आविष्कार  
जल गया हिरोशिमा नागासाकी जिसका न कोई आधार 
प्रगति अभी खोज रही थी कैंसर का उपचार 
लो आ गया नया एड्स का भरा पूरा परिवार 
प्रगति ने ही किया है वकील अदालतों का आविष्कार 
बोफोर्स, हवाला चारा करके भी बच गई सरकार 
प्रगति का सबसे बड़ा आविष्कार तो है नोटों की लम्बी तलवार 
जिससे काटो तो ना निकले खून और बचे कातिल हर बार..... 


शुक्रवार, 9 सितंबर 2011

ऐसा देश है मेरा.....

पढ़ा लिखा है यहाँ संतरी 
अशिक्षित है शिक्षामंत्री 
सुन लो ओ जग वालों 
कहता हूँ मैं खरी-खरी 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा 
जिसको घर का काज न आवे 
वो प्रदेश का राज चलावे 
जहाँ का लीडर अपनी सोचे 
और समाज का बैंड बजावे 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
भाई भतीजा वाद बहुत है 
भ्रष्टाचार आबाद बहुत है 
मानवता ईमान नहीं कुछ 
धर्म के नाम पे फसाद बहुत है 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
पत्थर पे लाखों का हार सजाते 
पर गरीब को मार भगाते 
अंधविश्वास का हाल ये देखो 
बच्चों का भी शीश चढाते 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
हम दो हमारे सौ का नारा है 
आबादी बढ़ाना ही काम प्यारा है 
लड़की उनको भी कुंवारी चाहिए 
जो खुद सौ-सौ मुंह मारा है 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
लोग चवन्नी बस यहाँ कमाते 
शाम हुई खूब पी के आते 
ज्ञान के नाम पर शून्य हैं फिर भी 
बातें बड़ी-बड़ी कर जाते 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
'हीरो' की तुम देखो बातें 
फुटपाथ पर गाडी चलते 
लोग फिर भी है उनके 'फैन'
जो लोगों को नींद में उड़ाते 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
विश्व सुंदरी भी क्या कमाल करें 
परोपकार समाज सेवा की बात करे 
पहनते ही ताज मगर वो भी 
'बॉलीवुड' की ही राह धरे 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
कहीं-कहीं हैं रातें उजली 
कहीं-कहीं हैं दिन में भी अँधेरा 
चंद लोग तो महलों में सोते 
बाकी का है फुटपाथ बसेरा 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा